हिंदी दिवस का क्या अर्थ है?

हिंदी दिवस का क्या अर्थ है?

हिंदी दिवस का क्या अर्थ है?

हिंदी दिवस का क्या अर्थ है इसका सीधा अर्थ है, हिंदी भाषा को बढ़ावा देना। वक्त के साथ-साथ हिंदी भाषा का उपयोग कम होता जा जाहा है। भारत में हिंदी भाषा का उपयोग ज्यादातर उत्तर के तरफ किया जाता है। और जैसे जैसे दक्षिण के तरफ बढ़ा जाता है वैसे वैसे हिंदी भाषा का उपयोग कम किया जाता है। इसी भिन्नता को कम करने के लिए 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। हिंदी दिवस मानाने के और भी बहुत कुछ मायने है जिसमे से पहला मायने है की 14 सितम्बर को हिंदी के महान साहित्यकार व्यौहार राजेंद्र सिंह का जन्म हुआ था। इसीलिए 14 सितम्बर को हिंदी दिवस मनाया जाता है।

हिंदी दिवस का क्या अर्थ है?
हिंदी दिवस का क्या अर्थ है?

हिंदी दिवस किसकी याद में मनाया जाता है?

जब हमारा देश आजाद हुआ था। उसके बाद संविधान सभा ने हिंदी भाषा को राजभाषा का दर्जा दिया था। लेकिन ये फैसला बहुत से नेताओ को पसंद नहीं आया। उसके बाद ये फैसला किया गया की भारत का संविधान किसी भी भाषा को राजभाषा का दर्जा नहीं देगा। लेकिन अनुच्छेद 343 के अनुशार केंद्र और संघ का आधिकारिक भाषा हिंदी ही होगी। उसके बाद 14 सितम्बर 1953 को हिंदी दिवस के रूप में पहली बार मनाया गया था। फिर तबसे लेकर आज तक 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है?

हिंदी दिवस को मानाने का सबसे बड़ा कारण ये है की हिंदी भाषा को लोगो के बिच बढ़ावा दिया जाये। जिससे हिंदी भाषा को उपयोग ज्यादा से ज्यादा किया जाये। और पुरे विश्व में हिंदी भाषा की एक अलग पहचान बने। विश्व में लोग हिंदी भाषा को जाने पहचाने और मने। हिंदी भाषा का महत्त्व बढ़ाना बहुत ही जरुरी है। क्युकी हिंदी भाषा हमारे देश की संस्कृति को दिखता है। भारत सरकार की ये प्रयास है। की हिंदी भाषा का उपयोग हर जगह किया जाये चाहे वो देश हो या फिर विदेश हो। हिंदी भाषा से ही हमारा पहचान है। इसीलिए लिए भारत में हिंदी दिवस मनाया जाता है।

हिंदी दिवस की शुरुआत कैसे हुई?

आप लोगो के दिमाग में ये बात चल रही होगी की हिंदी दिवस की शुरुआत कैसे हुई। तो आपको बता दिया जाये की 14 सितम्बर 1949 को संविधान सभा में एक बहुत ही लम्बी चर्चा के बाद ये फैसला लिया गया की देवनागरी लिपि में लिखी गयी हिंदी भाषा को राजभाषा का दर्जा दिया जायेगा। उसके बाद ये फैसा लिया गया की 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जायेगा। उसके बाद ही हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मानना शुरुआत हो गया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top